Is Sheher Ne Baarish Ko Nahi Bhula

ISNBKNB

इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

गर्मी से रिहाई का, बोझ उतारना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

बादलों के आशीर्वाद का, शुक्रिया अदा करना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

चहेरे पे पड़ती बूँदो का, मज़ा लूटना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

काग़ज़ की नैया को, इठलाते देख हसना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

गर्म चाए और पकोडे का, स्वाद अब तक नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

बरसते हुए पानी मे, यादें बरसाना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

गीली मिट्टी की खुश्बू को, महसूस करना नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

कंबल ओढकर सोने का, सुकून अब तक नही भूला| इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

इस शहेर ने बारिश को नही भूला!

– Vishvaraj Chauhan (Funadrius)

#Poetry #HindiPoetry #blog #Rain #Hindi #Baarish

0 comments

Recent Posts

See All

Nothing has been heard.

I'm done with the metaphors. I'm done with the similes. I'm tired of analogies and trying to explain things by the means of examples. I'm exhausted. This might be the most raw post I've ever written,

Rescue Dogs

Videos of dogs being rescued have become the smile providers I need at times. But it also fuels in me a great curiosity.