Savaal Hai (Poem)

दर वीरान है और दस्तक का सूना हाल है, शहर मे मकान तो है, पर घर का सवाल है|

खुले उजाले मे बस्ते अंधेरे का ख़याल है, हँसना आता तो है, पर हँसी खिलने का सवाल है|

रात को नींद नही पर दिन से लड़ने की मज़ाल है, सीने मे दिल तो है, पर धड़कन का सवाल है|

रास्ते है कहीं, और अकेले चलने का काल है, लोग पहचानते तो है, पर अपनो का सवाल है|

ज़िंदगी का यह एक ऐसा मायाजाल है, तन्हाई तो है, पर जीने का सवाल है|

– Funadrius

#Hindi #HindiPoetry #Poetry

Recent Posts

See All

Arthur, Arthur

Arthur, Arthur in the phone; Who’s the craziest in the unknown? When the world preys and prays, Who’s the one cast and thrown? Arthur, Arthur in the phone; Who’s the loner most prone? Coming home to b

©2019 by Halfway To Asphodel.